Tap to Read ➤

12 साल से ऊपर वाले बच्चों के लिए कोरोना वैक्सीन को भारत में मंजूरी

DCGI ने Zydus Cadila द्वारा निर्मित Zycov-D वैक्सीन को मंजूरी दी है. वैक्सीन को इमर्जेंसी यूज ऑथोराइजेशन मिलने के बाद इसकी तीनों डोज दी जा सकती हैं.
दुनिया की पहली DNA वैक्सीन Zycov-D को भारत में मंजूरी मिल गई है.
वैक्सीन को इमर्जेंसी यूज ऑथोराइजेशन मिलने के बाद इसकी 0, 28 और 56 दिन पर तीनों डोज दी जा सकती हैं.
इस वैक्सीन पर अब तक का सबसे बड़ा ट्रायल हुआ है, जिसमें करीब 28000 लोग शामिल हुए थे.
ये इंजेक्शन मुक्त वैक्सीन है. ये फार्मा जेट इंजेक्शन फ्री सिस्टम के द्वारा दिया जाता है.
इसे 2 से 8 डिग्री पर स्टोर किया जा सकता है. इससे पहले, Covishield, कोवैक्सीन, स्पूतनिक, Moderna और J and J को भारत में मंजूरी मिल चुकी है.
इस वैक्सीन को मंजूरी मिलने के बाद 12 साल से ऊपर के बच्चों के कोविड वैक्सीनेशन के रास्ते भी खुल गए हैं.
Zydus ने इस वैक्सीन का निर्माण डिपार्टमेंट ऑफ बायोटेक्नोलॉजी के साथ मिलकर किया है.
कंपनी ने कहा कि उसकी सालाना ZyCoV-D की 100 मिलियन से 120 मिलियन खुराक बनाने की योजना है.
ZyCoV-D कोरोनावायरस के खिलाफ दुनिया का पहला प्लास्मिड डीएनए वैक्सीन है. यह वायरस से आनुवंशिक सामग्री के एक हिस्से का उपयोग करता है.
और स्टोरी पढ़ें..