रिलायंस के चेयरमैन मुकेश अंबानी ने कंपनी की 5जी सेवाओं की शुरुआत कर दी है। भारत के सबसे धनी व्यक्ति ने रिलायंस इंडस्ट्री की 45वीं वार्षिक आम बैठक में भारत में 5जी नेटवर्क लॉन्च करने के लिए $25 बिलियन के निवेश की घोषणा की। अंबानी ने कहा, "Jio ने एक महत्वाकांक्षी 5G रोल-आउट योजना तैयार की है।"

By Azad Sep 1, 2022

दिवाली पर रिलायंस जियो की 5जी सेवाएं शुरू हो जाएंगी। इस साल दिवाली 24 अक्टूबर को पड़ रही है। संभावना है कि रिलायंस 22 अक्टूबर को धनतेरस के मौके पर 5जी सेवाएं शुरू कर सकती है, नए कामों की शुरुआत के लिए यह दिन काफी शुभ माना जाता है।

​भारत के किन शहरों में सबसे पहले मिलेगा Jio 5G

Reliance Jio 5G को कई प्रमुख शहरों में लॉन्च करेगी, जिसमें दिल्ली, मुंबई, कोलकाता और चेन्नई महानगर शामिल हैं।

​भारत के किन शहरों में सबसे पहले मिलेगा Jio 5G

रिलायंस ने बाद में महीने दर महीने Jio 5G पदचिह्न बढ़ाने की योजना बनाई है। दिसंबर 2023 तक, मुकेश अमनबी ने वादा किया कि कंपनी "हमारे देश के हर शहर, हर तालुका और हर तहसील में Jio 5G वितरित करेगी।"

भारत के अन्य शहरों के बारे में क्या

रिलायंस ने इस बारे में कोई जानकारी नहीं दी कि उसकी 5जी सेवाओं की कीमत कैसी होगी। हालांकि, संभावना है कि शुरुआत में कंपनी के हाई-वैल्यू प्लान्स पर ग्राहकों को प्रीमियम के तौर पर 5G ऑफर किया जाएगा। यह एक ऐसी ही रणनीति है जिसका पालन एयरटेल और वोडाफोन भी कर सकते हैं।

कैसे होगी Jio 5G सेवाओं की कीमत

रिलायंस ने इस बारे में कोई जानकारी नहीं दी कि उसकी 5जी सेवाओं की कीमत कैसी होगी। हालांकि, संभावना है कि शुरुआत में कंपनी के हाई-वैल्यू प्लान्स पर ग्राहकों को प्रीमियम के तौर पर 5G ऑफर किया जाएगा। यह एक ऐसी ही रणनीति है जिसका पालन एयरटेल और वोडाफोन भी कर सकते हैं।

रिलायंस जियो 5जी स्मार्टफोन के बारे में क्या?

मुकेश अंबानी ने अपने भाषण में जोर देकर कहा कि Jio 5G हर मायने में एकमात्र True 5G होगा। उन्होंने अन्य दूरसंचार कंपनियों द्वारा अपनाए जा रहे दृष्टिकोण को "जल्दबाजी" करार दिया। "अधिकांश ऑपरेटर 5G का एक संस्करण तैनात कर रहे हैं, जिसे नॉन-स्टैंडअलोन 5G कहा जाता है, जो अनिवार्य रूप से मौजूदा 4G इन्फ्रास्ट्रक्चर पर दिया गया 5G रेडियो सिग्नल है। यह गैर-स्टैंडअलोन दृष्टिकोण नाममात्र के लिए 5G लॉन्च का दावा करने का एक जल्दबाजी का तरीका है

​रिलायंस जियो 5जी की तुलना एयरटेल और वोडाफोन से कैसे की जा सकती है?

रिलायंस ने यह भी कहा कि उसने अपने 'मेड इन इंडिया' 5G के लिए वैश्विक दिग्गजों के साथ साझेदारी की है। इनमें इमर्सिव टेक्नोलॉजी के लिए फेसबुक पैरेंट मेटा; Azure पारिस्थितिकी तंत्र के लिए Microsoft; क्लाउड-स्केल डेटा केंद्रों के लिए इंटेल; और इसने भारत के लिए 5G समाधान विकसित करने के लिए क्वालकॉम के साथ सहयोग भी किया है

Jio 5G को पावर देने के लिए Microsoft, Qualcomm और अन्य