Tap to Read ➤

संसद को RSS की शाखा जैसे चलाना चाहते हैं, हम ऐसा होने न देंग

CPIM की बृंदा करात का मोदी सरकार पर वार, कहा- संसद को RSS की शाखा जैसे चलाना चाहते हैं, हम ऐसा होने न देंगे








संसद के काम-काज को लेकर कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया (मार्क्सवादी) पोलित ब्यूरो बृंदा करात ने नरेंद्र मोदी सरकार पर जुबानी वार किया है।









बृंदा करात का आरोप है कि भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) संसद को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) की शाखा की तरह चलाने की कोशिश कर रही थी।









बृंदा करात ने कहा हम संसद के साथ ऐसा नहीं होने देंगे या फिर इसे गुरुदक्षिणा के लिए ऐसी जगह नहीं बनने देंगे, जहां नरेंद्र मोदी के भाषण पर सिर्फ ताली बजेगी।









बृंदा ने भाजपा पर संसद के दोनों सदनों में बहुमत का दुरुपयोग करने का आरोप भी लगाया।









बृंदा ने कहा सत्ता पक्ष अपने बहुमत का दुरुपयोग संसद के भीतर प्रमुख मुद्दों पर बहस करने के बजाय विपक्ष की आवाजों को दबाने के लिए अहंकार और अत्याचार के एक उपकरण के रूप में कर रहा था।









बृंदा ने कहा यह एक शर्मनाक था कि बाहर के लोगों को सांसदों के साथ मारपीट करने के लिए मार्शल के रूप में बुलाया गया था।









बृंदा ने कहा यह विपक्ष नहीं बल्कि केंद्र का अहंकार था, जिसे गतिरोध के लिए जिम्मेदार ठहराया जाना चाहिए। पेगासस के इस्तेमाल पर चर्चा की जगह केंद्र ने अहम मुद्दों पर विपक्ष की मांग को आसानी से नकार दिया।








उन्होंने कहा गर यह सरकार विपक्ष को दबाने का प्रयास करेगी, तब हम मुद्दों को लेकर सड़क पर भी आ जाएंगे।








सीपीआईएम राष्ट्रीय स्तर पर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के नेतृत्व वाली तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के साथ गठजोड़ के लिए तैयार है।



और स्टोरी पढ़ें