मजलिस में रमजान की बरकतों का किया गया जिक्र


इसरार अहमद
अंबेडकर नगर। जनपद के लोरपुर ताजन के मोहल्ला हुसैनाबाद में मरहूम मीर तालिब हुसैन के इमामबाड़ा मे 7 जून दिन बुधवार रात को 8:00 बजे मरहूमा खुर्शीद बेगम की सालाना मजलिस का आयोजन हुआ।
कार्यक्रम(मजलिस)की शुरुआत नैयर हुसैन वह उनके हमनवा ने सोज़खानी से किया।मजलिस कार्यक्रम को संबोधित करते हुए शिया धर्मगुरु मौलाना इंतजार मेहंदी फैजी ने कहा कि इस्लाम एक इंसानियत का मतलब है इस्लाम में दहशतगर्दी की कहीं पर कोई जगह नहीं है उन्होंने कहा कि रमजान महीने में रोजा रखना बहुत जरूरी है।
रमजान इंसानियत का पैगाम देती है उन्होंने कहा कि कर्बला के मैदान में मुहम्मद रसूल अल्लाह सल्लल्लाहु अलैहिवसल्लम के प्यारे नवासे हजरत इमाम हुसैन रजिअल्लाहु तआला अन्हु ने जो कुर्बानी पेश की हैं वह दुनिया के लिए एक मिसाल है।
आखिरी में उन्होंने कर्बला की दर्दनाक व रूह अफरोज घटनाओं का उल्लेख किया और तमाम अजादारों के आंसू शिशक निकल पड़े।मजलिस कार्यक्रम में प्रमुख रुप से सय्यद मतलब हुसैन सैयद इमरान रजा रिजवी,कैफी रिजवी,सैयद शाहिद हुसैन ,शीबू रिजवी,सय्यद हसन अब्बास सजर ,सैयद हुसैन अब्बास, सैयद राहिल हुसैन,सैयद सादिक हुसैन मोहम्मद,मौजूद रहे वही मजलिस कार्यक्रम में सैकड़ों की संख्या में सुनने वाले लोग मौजूद रहे।
Previous Post Next Post

POST ADS1

POST ADS 2