जौनपुर के शिया कॉलेज प्रबंधक और प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष सिराज मेहंदी समेत 6 पर प्राथमिकी दर्ज


रियाजुल हक़
जौनपुर- कोतवाली थाना क्षेत्र के धोखाधड़ी,  जालसाजी व गबन के एक मामले में सीजेएम अभिनय मिश्र ने डॉक्टर अख्तर हसन रिजवी शिया कॉलेज के प्रबंधक सिराज मेहंदी, डिग्री कॉलेज के कार्यवाहक प्राचार्य सादिक रिजवी समेत पांच आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर विवेचना का आदेश कोतवाल को दिया।
कोर्ट के आदेश पर बुधवार को ही शाम कोतवाली में आरोपियों के खिलाफ धोखाधड़ी जालसाजी व गबन का मुकदमा दर्ज किया गया। सिराज मेहंदी प्रदेश कांग्रेस के उपाध्यक्ष भी हैं।
पुरानी बाजार निवासी सैय्यद शहजादे आलम जैदी ने धारा 156 (3) के तहत कोर्ट में दरखास्त दिया कि शिक्षण संस्थान शिया डिग्री कॉलेज जौनपुर के नाम से विद्यालय कई वर्षों से संचालित है। डॉक्टर अख्तर हसन रिजवी शिया डिग्री कॉलेज जौनपुर की तरफ से आरोपियों ने साजिश करके 16 मार्च 2016 को तहसीलदार सदर जौनपुर को कूट रचित व हस्ताक्षरित कागजात के साथ आवेदन किया कि कागजात में जमीन शिया कॉलेज जौनपुर के नाम अंकित है जिस पर डाक्टर अख्तर हसन रिजवी शिया डिग्री कॉलेज जौनपुर की बिल्डिंग बनी है ।
जबकि खतौनी के अनुसार उक्त जमीन पर रजा डीएम इंटर कॉलेज जौनपुर का नाम अंकित है ।एसडीएम सदर द्वारा 25 मई 2017 को इस मामले की जांच कराई गई जिसमें संस्थान की भूमि रजा डीएम इंटर कॉलेज के नाम से दर्ज पाई गई ।डॉक्टर अख्तर हसन रिजवी शिया डिग्री कॉलेज जौनपुर नामक महाविद्यालय के पास न तो कोई अपनी भूमि है न भवन। रजा डी एम इंटर कॉलेज जौनपुर की भूमि व भवन पर महाविद्यालय का बोर्ड लगाकर मान्यता प्राप्त कर ली गई ।
इस धोखाधड़ी व जालसाजी में डॉक्टर अख्तर हसन रिजवी शिया कॉलेज के प्रबंधक सिराज मेंहदी, शिया डिग्री कॉलेज के कार्यवाहक प्राचार्य सादिक रिजवी, कार्यालय लिपिक, पूर्वांचल विश्वविद्यालय के कर्मी तथा अन्य अज्ञात लोग शामिल हैं । अभियुक्तों ने अपने छल कपट ,कूट रचना व फरेबाना कृत्य से राजकीय कोष को भारी क्षति पहुंचा कर स्वयं हर वर्ष अनुदान लेकर छात्रों के नाम पर करोड़ों का घोटाला कर आर्थिक रुप से लाभांवित हुए।
वादी ने कोतवाली व पुलिस अधीक्षक को आरोपियों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई के संबंध में दरखास्त दिया। कोई सुनवाई न होने पर उसने कोर्ट की शरण ली ।कोर्ट ने प्रथम दृष्टया गंभीर अपराध आरोपियों के खिलाफ पाते हुए प्राथमिकी दर्ज कर विवेचना का आदेश कोतवाल को दिया।जिसपर कोतवाली में प्राथमिकी दर्ज हुई।
Previous Post Next Post

POST ADS1

POST ADS 2